Saturday, 5 June 2010

ये लडकियां फोन पर क्या बतियाती हैं?(व्यंग्य): दिल्ली से योगेश गुलाटी




फोन पर ज्यादा बातें करना तो मुझे बिल्कुल पसंद नहीं है जी! लेकिन फोन पर लंबी बातें करते हुए लोगों को देख कर मैं अकसर ये सोचता हूं कि ये लोग इतनी देर तक क्या बात करते होंगे? विशेषकर दिल्ली की लडकियां तो फोन पर घंटों बातें करती हुई देखी जाती हैं! उन्हें देखकर मेरे मन में अकसर चंद सवाल आते हैं, पहला तो ये कि उनका फोन किस कंपनी का है? क्योंकि घंटों बात करने पर जिसकी बेटरी खत्म ही ना होती हो ये तो कमाल है ना! ये तो वो ही बात हुई क्या करूं खतम ही नहीं होता! मेरे कंबख्त फोन की बैटरी तो हर रोज़ चार्ज करनी पडती है जबकि मैं बमुश्किल दिन में दस मिनट ही फोन का इस्तेमाल करता हूं! दूसरा सवाल जो मेंरे ज़हन में आता है वो ये कि इनके पास कौन सी टेलीकाम कंपनी का कनेक्शन है? जो घंटों निर्बाध बातें करने की सुविधा प्रदान करता है! जबकि मेरा कंबख्त आईडिया का कनेक्शन तो बस....पूछिये मत सर जी! मजाल है कि दस मिनिट भी चैन से बात करने दे किसी से! दस मिनिट में दो तीन बार डिस कनेक्ट ना हो तो क्या आईडिया सर जी?


और दिल्ली मेट्रो में तो अकसर लडकियां फोन पर बात करते हुए ही सफर काटती हैं! ( बिन मांगे सजेशन देने की तो मुझे आदत है नहीं पर बात निकली है तो बता देता हूं, बात ही करनी है तो अपने आजू-बाजू बैठे लोगों से ही बात कर लो, काहे को फोन का बिल बढाते हो?) और वैसे भी सुना है मोबाईल पर ज़्यादा देर तक बात करने से त्वचा काली पडने लगती है! सच तुम्हारी कसम ! अमेरिका में हुई ताज़ा रिसर्च में ये बात सामने आई है! लेकिन ये रिसर्च की बात बीच में कहां से आ गई!

आप भी ना मुझे मुद्दे से भटका देते हो! हां तो हम बात कर रहे थे मोबाईल फोन के इस्तेमाल की! भई हमारी प्राब्लम ये है कि मेट्रो में अव्वल तो हम आजू-बाजू बैठे लोगों से ही बात करके अपना टाईम पास कर लेते हैं!  क्या फायदा बेफज़ूल फोन पर किसी का दिमाग चाटने का? और फिर हमें अपनी त्वचा की भी चिंता रहती है! वैसे भी कहावत है ना कि त्वचा से ही उम्र का पता चलता है! क्या कहा ऎसी कोई कहावत नहीं है! आप भी बस... बहस करने लगते हैं! अरे अगर ऎसी कोई कहावत नहीं भी है तो मान लेने में आपका कौन सा खर्चा हो जायेगा? भई ऎसे ही तो नई कहावतें बनती हैं! हम तो आपको एक नई कहावत बनाने का क्रेडिट दे रहे थे! अब आपको नहीं चाहिये तो आपकी मर्ज़ी!

आप सोच रहे होंगे आजू बाजू ट्रेन में सफर कर रहे लोगों से हम क्या बात करते होंगें? लो भाई ये तो अंडर्स्टेंडिंग की बात है! भाई साहब या " ......." टाईम क्या हुआ है, बस यहीं से बात शुरु हो जाती है! अब अपने इंडिया में भले ही आपको लाख वक्त की कोई परवाह ना हो, और नीरे निठल्ले हों लेकिन किसी से बात करनी हो तो वक्त पूछने की परंपरा आदिकाल से चली आ रही है! और हम भी उसी परंपरा का पालन करके बातचीत शुरु किये देते हैं! अब सामने वाला बंदा आपको हसकर टाईम बताएगा ही तो इसके बाद पोलिटिक्स या करप्शन का टापिक छेड दो! या फिर कोई ताज़ा रिलीज़ फिल्म की बात कर्ने लगो! और अगर कोई क्रिकेट मैच चल रहा हो तो उसी के स्कोर पर बातचीत कर लो! इंडियन टीम अच्छा कर रही हो तो तारीफ नहीं तो जम कर कोसो धोनी को! भाई, राजनीति क्रिकेट और फिल्म तो इंडिया में एवरग्रीन देवानंद की तरह हैं! कोई भी इंडियन इन पर अपनी फोकटिया राय देने से खुद को रोक नहीं सकता है!

इस तरह हम जब भी मेट्रो ट्रेन में सफर करते हैं एक ग्रुप डिस्कशन सा माहौल बन जाता है! और बाकी सबको अपने हिंदुस्तानी होने का एहसास होने लगता है! कईं बार तो ऎसा भी होता है कि कुछ यात्री इस ग्रुप डिसकशन में ही इस कदर खो जाते हैं कि अपने जिस स्टेशन पर उन्हें उतरना होता है उसके निकल जाने के बाद उन्हें खयाल आता है कि वो स्टेशन तो निकल चुका! लेकिन हम तो निश्चिंत रहते हैं! हमारे पास मेट्रो का स्मार्ट कार्ड जो है! और हमें खुशी इस बात पर होती है कि हमारे स्टेशन पर उतरने की मजबूरी के बाद भी भाई लोग ग्रुप डिस्कशन जारी रखते हैं और पोलिटिक्स, फिल्म और क्रिकेट जैसे टीआरपी वाले विषयों की वजह से इस डिस्कशन में नये यात्री जुडते रहते हैं और ये क्रम यूं ही बना रहता है! तो है ना ये टाईम पास का अच्छा विकल्प!

वैसे पहले जब हमें ये आईडिया नहीं सूझा था तब हम टाईम पास के लिये अखबार का इस्तेमाल किया करते थे! लेकिन ये इंडिया है भईया! यहां हर कोई मुफ्त का माल बांचना चाहता है! हम जब भी ट्रेन में अखबार खोलते....सीनियर सिटिजन की सीट पर बैठे अंकल हमसे पोलिटिक्स वाला पन्ना मांग लेते! अब तीन रुपये का अखबार मना भी नहीं कर सकते! लेकिन बात यहीं तक रहती तो ठीक था, लेकिन बाजू में बैठी आंटी फिल्म और फैशन वाला पन्ना मांग लेती! और हम मुस्कुरा कर दे देते! इतने दानवीर बनने पर भी हम एक भी खबर पर कंसंट्रेट नहीं कर पाते! क्योंकि हम ये देखते कि जिस खबर को हम पढ रहे हैं सामने खडे दो लोगों की नज़र भी उसी खबर पर टिकी है! हम पन्ना पलट कर दूसरी खबर पर जाते तो वो साहब बहादुर वहां भी अपनी नज़र गडा लेते! इससे हमें एक चीज़ का एहसास तो हो गया कि नज़र भी कितना इरीटेट कर सकती है! इसलिये अब हमनें मेट्रो ट्रेन में टाईम पास के लिये अखबार पढने से तौबा कर ली है! और ग्रुप डिस्कशन का नया तरीका इजाद किया है!

वैसे टाईम पास की बात पर मुझे एक पुराना कस्सा याद आ गया! इससे आपको एक काम की नसीहत मिल सकती है वो भी मुफ्त में! एक बार एक लडकी के साथ चल रही हमारी लंबी वार्ता के दौरान किसी दुष्ट महापुरुष के टोकने पर हमने कह दिया कि बस यूं ही टाईम पास कर रहे हैं! हमारा इतना कहना था कि अप्रत्याशित रूप से वो लडकी छिड माफ कीजियेगा चिढ गई! उसने कहा क्या मैं टाईम पास करने की चीज़ हूं? अब हम क्या जवाब देते इस सवाल का! हमें क्या पता? इसलिये भुक्त्भोगियों से शिक्षा लो और ये मुफ्त की सलाह अपनी गांठ बांध लो कि किसी भी लडकी से कभी भूल कर भी ना कहो कि आप टाईम पास कर रहे थे उसके साथ ! भई लडकियों को टाईम पास करने वाले फाल्तू टाईप के लडके बिल्कुल भी पसंद नहीं आते! उन्हें तो वो लडके पसंद आते हैं जो वक्त की कीमत समझते हों!


उफ्फ..........ये मैं क्या बात करने लगा! आपने मुझे फिर विषय से भटका दिया! हम बात कर रहे थे मोबाईल फोन की और बात जा पहुंची टाईमपास पर! वक्त की कीमत समझेंगे तभी ज़िंदगी की रेस में जीत पायेंगे! देखा नहीं दुनिया कितनी तेज़ी से आगे बढ रही है! दुनिया के पास वक्त ही नहीं और आप हैं कि टाईम पास के उपाय खोजने में लगे हैं! कितने फालतू हैं आप! लेकिन हम वक्त की कीमत जानता हूं इसीलिये तो शोर्ट में अपनी बात कहने की कब से कोशिश कर रहा हूं! हां तो हम बात कर रहे थे मोबाईल फोन की!

अव्वल तो मैं मेट्रो ट्रेन में मोबाईल का इस्तेमाल नहीं करता! लेकिन कभी कोई अर्जेंट फोन आ जाये उस दौरान, तो चलती ट्रेन में मेंरा फोन फटाक से डिसकनेक्ट हो जाता है नेटवर्क ना मिलने की वजह से! जबकि इन लडकियों को उस वक्त भी आराम से अपने मोबाईल पर बातें करते देखा जा सकता है जब ट्रेन सुरंग में होती है! सुरंग में भी उनको टावर मिल जाता है, ये मिस्ट्री अपुन को समझ नहीं आई! तो हमने एक लडकी से पूछ ही लिया, एक्सक्यूज़ मी प्लीज़! फोन पर बात करती हुई वो काल को होल्ड पर रख कर बोली येस! मैंने कहा एक छोटा सा सवाल आपसे पूछना था अगर आप बुरा ना मानें तो...! हां हां पूछो-पूछो उसने उत्साह से कहा! आपका मोबाईल....मेरा इतना कहना था कि वो बोल पडी नोट करो,- 9827828.....नहीं-नहीं मैं आपका मोबाईल नंबर नहीं पूछ रहा! तो...? उसके आश्चर्य का ठिकाना ना रहा मानो मैंने उसका बडा अपमान कर दिया हो! मैं तो ये जानना चाहता हूं कि आपका मोबाईल किस कंपनी का है! उसने कहा नोकिया! बडा अच्छा मोबाईल है जी आपका! इतनी देर से आप बात किये जा रही हैं फिर भी इसकी बैटरी खत्म ही नहीं होती! अब मैने जल्दी से दूसरा सवाल दाग दिया! और इसमें कनेक्शन कौन सी कंपनी का है? आईडिया का! ये सुनकर मेरा पारा चढ गया! क्योंकि इससे कंपनी का दोहरा चरित्र उजागर हो गया था! उसी कंपनी की सिम में मुझे खुले मैंदान में और सूरज की रोशनी में भी सिग्नल नहीं मिलते! और लडकियों को सुरंग के अंधेरे में भी वो सिग्नल प्रवाईड कर रही थी! हमने भी ठान लिया कि आज ही बदल डालेंगे अपनी सिम और ले लेंगे किसी ऎसी कंपनी की सिम जो लिंग भेद ना करती हो!

मेरा आखिरी सवाल, अब वो मेरी तरफ ऎसे देखने लगी जैसे मैं उसके घर का एड्रेस पूछने वाला हूं! मैं थोडा रुका और सोचने लगा वैसे भी अब एड्रेस पूछने या फोन पर इतना लंबा कैसे बतिया लेती हैं जैसे फालतू सवालों के सिवाय कोई सवाल बचता नहीं है! और दोनों ही सवाल पूछने में उसके छिड माफ कीजियेगा चिढ जाने की संभावना थी! हालाकि लडकियां फोन पर इतना लंबा क्या बतियाती हैं ये जानने की जिग्यासा शांत नहीं हुई थी! दरसल ये जिग्यासा उस वक्त और बढ गई थी जब हमने अपने पडोस की एक लडकी को, उसके घर की छत पर, अपने घर की छत से, रात्री के दूसरे पहर फोन पर, पूरा एक घंटा बतियाते देखा था! और उसकी ये बातचीत भी इसलिये खत्म हुई थी क्योंकि उसके फोन की बैटरी खत्म हो गई थी! लेकिन अभी उसे और बात करना बाकी था इसलिये उसने बेझिझक हमसे हमारा फोन मांग लिया! उस रात हमारी ये जिग्यासा तो खत्म नहीं हुई हां फोन की बैटरी और प्रीपेड बैलेंस ज़रूर खत्म हो गया था!

वो मुझे अभी भी घूर रही थी! किसी खबरिया चैनल में काम करते हो क्या? उसने कहा! " इसे कैसे पता चल गया"? मैंने मन ही मन सोचा! एक और जिग्यासा जाग उठी! मुझे भरी ट्रेन में बेईज़्ज़ती खराब होने का खतरा लेना सही नहीं जान पडा! इसलिये मैंने आगे के सवाल विड्रा करते हुए कहा,-" इस जानकारी के लिये आपका शुक्रिया!" वो फिर फोन पर बिज़ी हो गई थी! अब ये जानने की उत्सुकता तो थी कि ये लडकियां इतनी देर फोन पर बात क्या करती हैं? इसलिए अगली बार हमनें इनकी बातचीत पर कान देने की ठानी! और जो बातें हमने सुनी तो हम दंग रह गये! लेकिन वो सब अगली पोस्ट में! तब तक इस मुद्दे पर कुछ और रिसर्च भी हो जायेगी!






18 comments:

आचार्य जी said...

आईये जानें .... मन क्या है!

आचार्य जी

सतीश पंचम said...

वैसे रिसर्च से यह भी पता चला है कि ज्यादा ब्लॉगिंग से त्वचा काली पड जाती है :)

विश्वास न हो तो 'ब्लॉगाइट कमेन्टसन एन्ड पोस्टालिका' की रपट देखें :)

मजेदार और रोचक पोस्ट है।

sanu shukla said...

bahut khoob bhaisahab...behtreen.

अनूप शुक्ल said...

आप भी कम बातूनी नहीं हैं योगेश जी।
ज्ञ लिखने के लिये बाराहा में j~j टाइप करें। :)

राजीव तनेजा said...

हा...हा...हा...बहुत बढ़िया...
मुझे अपने शुरूआती दिन याद आ गए...
फोन के नहीं अपने लेखन के :-)

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

यह तो है, लड़कियां पता नहीं किस किस (इमरान हाशमी वाला नहीं) मुद्दे पर बात कर लेती हैं...

Anonymous said...

शानदार पोस्ट! हसने पर मजबूर कर दिया!

राजगुरु said...

वाह उस्ताद वाह ! बातें तो आप भी कम नहीं बनाते! बढिया पोस्ट!

अनुष्का शुक्ला said...

कमाल करते हैं योगेश आप भी? व्यंग्य तो अच्छा है लेकिन नारीवादीयों को बुरा लग गया तो? रचना जी से सावधान रहियेगा!

जय खत्री said...

कितने फालतू हैं आप! लेकिन हम वक्त की कीमत जानता हूं इसीलिये तो शोर्ट में अपनी बात कहने की कब से कोशिश कर रहा हूं!

वाकई में.......?

विरेन्द्र शास्त्री said...

किसी खबरिया चैनल में काम करते हो क्या? उसने कहा! " इसे कैसे पता चल गया"? मैंने मन ही मन सोचा! एक और जिग्यासा जाग उठी! मुझे भरी ट्रेन में बेईज़्ज़ती खराब होने का खतरा लेना सही नहीं जान पडा! इसलिये मैंने आगे के सवाल विड्रा करते हुए कहा,-" इस जानकारी के लिये आपका शुक्रिया!"

अच्छा है बहुत अच्छा है!

विनयकांत said...

और इसमें कनेक्शन कौन सी कंपनी का है? आईडिया का! ये सुनकर मेरा पारा चढ गया! क्योंकि इससे कंपनी का दोहरा चरित्र उजागर हो गया था! उसी कंपनी की सिम में मुझे खुले मैंदान में और सूरज की रोशनी में भी सिग्नल नहीं मिलते! और लडकियों को सुरंग के अंधेरे में भी वो सिग्नल प्रवाईड कर रही थी! हमने भी ठान लिया कि आज ही बदल डालेंगे अपनी सिम और ले लेंगे किसी ऎसी कंपनी की सिम जो लिंग भेद ना करती हो!

साधरण सी बातों में सुन्दर हास्य निकाला है आपने!

विवेक शर्मा said...

बहुत खूब ! सुन्दर प्रस्तुति के लिये आभार्! अगली भाग का इंतज़ार रहेगा!

ललित शर्मा said...

टैम पास तो होना चाहिए ना

सोचना ये है कि सामने बात करने वाला बंदा भी कितना वेल्ला होगा?:):):)

राज भाटिय़ा said...

मान गये जी, आप ने बहुत कम शब्दो मै कितनी बडी बात कह दी, लेकिन जबाब फ़िर भी ना मिला. धन्यवद

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत बढ़िया व्यंग ...

Shobhna Choudhary said...

बहुत खूब, रोचक

संजय भास्कर said...

इस जानकारी के लिये आपका शुक्रिया!"